'अर्थपूर्ण जीवनाचा समाजात शोध' घेण्यासाठी २००६ साली डॉ. अभय आणि डॉ. राणी बंग यांनी तरुणांसाठी विकसित केलेली शिक्षणप्रक्रिया म्हणजे 'निर्माण'...

समाजात सकारात्मक बदल घडवून आणण्यासाठी विविध समस्यांचे आव्हान स्वीकारणा-या व त्याद्वारे स्वत:च्या आयुष्याचा अर्थ शोधू इच्छिणा-या युवा प्रयोगवीरांचा हा समुदाय...

'मी व माझे' याच्या संकुचित सीमा ओलांडून,त्यापलीकडील वास्तवाला आपल्या कवेत घेण्यासाठी स्वत:च्या बुद्धीच्या,मनाच्या व कर्तृत्वाच्या कक्षा विस्तारणा-या निर्माणींच्या प्रयत्नांचे संकलन म्हणजे "सीमोल्लंघन"!

गेल्या तीन महिन्यातील निर्माणींच्या धडपडींचे थोडक्यात पण नेमके वृत्त आपल्यासाठी घेऊन येतील अमोल amolsd07[at]gmail[dot]com आणि सतीश गिरसावळे girsawale.sg[at]gmail[dot]com व सीमोल्लंघन टीम!

निर्माणबद्दल अधिक माहितीसाठी - http://nirman.mkcl.org; www.facebook.com/nirmanforyouth

Thursday, 21 November 2013

फर्क पडता है - विष्णू नागर

फर्क पडता हैं - विष्णू नागर
फर्क पडता हैं
मौसम बदलता हैं तो फर्क पडता हैं
चिडिया चहकती हैं तो फर्क पडता हैं
बेटी गोद मै आती हैं तो फर्क पडता हैं
भूख बढती हैं, आत्महत्याए होती हैं तो फर्क पडता हैं
आदमी अकेले लडना तय करता हैं तो फर्क पडता हैं
असमानमे बादल छा जाते हैं तो फर्क पडता हैं
आंखे देखती हैं, कान सुनते हैं तो फर्क पडता हैं
यहा तक कि यह सोचनेसेभी फर्क पडता हैं की क्या फर्क पडता हैं
जहां भी आदमी हैं, हवा हैं, रोशनी हैं, असमान हैं,
अंधेरा हैं, पहाड हैं, नादिया हैं, समुद्र हैं, खेत हैं,
पक्षी हैं, लोग हैं, आवाजे हैं, नारे हैं . .
 फर्क पडता हैं
फर्क पडता हैं इसलिये
फर्क लानेवालोंके साथ लोग खडे होते हैं
और लोग कहने लागते हैं की

“हां ! फर्क पडता हैं !”

No comments:

Post a Comment